Spread the love

हिमाचल प्रदेश विधान सभा के अध्यक्ष कुलदीप सिंह पठानियां ने आगामी बजट सत्र के दृष्टिगत सुरक्षा प्रबन्धों से सम्बन्धित विधान सभा सचिवालय में एक महत्वपूर्ण बैठक की अध्यक्षता की। गौरतलब है कि विधान सभा का 13 दिवसीय बजट सत्र 14 फरवरी, 2024 से आरम्भ होने जा रहा है। इस बैठक में राज्य सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों पुलिस महानिरिक्षक सतर्कता  संतोष पटियाल, पुलिस महानिरिक्षक दक्षिण रेंज  पुपुल दत्ता, विधान सभा  सचिव  यशपाल शर्मा, जिलाधीश शिमला अनुपम करश्यप, पुलिस अधीक्षक जिला शिमला  संजीव गांधी, निदेशक सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग  राजीव कुमार, प्रबन्धक निदेशक पर्यटन विकास निगम  राजीव कुमार, निदेशक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग डॉ0 गोपाल बैरी, आयुक्त नगर निगम शिमला  भूपेन्द्र अत्री, नवनीता शर्मा कमाण्डेट होम गार्ड तृतीय वाहिनी,  भूपेन्द्र नेगी अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सी0 आई0 डी0 सुरक्षा तथा लोक निर्माण विभाग , लोक निर्माण विभाग (विद्युत), जल शक्ति  विभाग के अधिशाषी अभियन्ता, संयुक्त सचिव विधान सभा  बेगराम कश्यप तथा संयुक्त निदेशक विधान सभा  हरदयाल भारद्वाज मौजूद थे

बैठक में महत्वपूर्ण निर्णय लिया गया कि विधान सभा सचिवालय में ई-प्रवेश पत्र  online आवेदन पर ही दिया जाएगा। ई-विधान प्रणाली के तहत विधान सभा सचिवालय इसे online तरीके से मुद्रित करेगी। यह आवेदन सभी ई-प्रवेश पत्र की जाँच हेतु पुलिस द्वारा कम्पयुट्रीकृत जांच केन्द्र मुख्य द्वारों पर स्थापित किए जाएंगे ताकि कम से कम अुसविधा हो तथा जांच भी पूर्ण हो

पूर्व की भांति इस बार भी क्यु0 आर0 कोड के माध्यम से फोटो युक्त ई-प्रवेश पत्र को लैपटॉप के माध्यम से प्रमाणित किया जाएगा। इन केन्द्रों पर हर व्यक्ति का डाटाबेस बनेगा जिसे पुलिस नियन्त्रण कक्ष से मॉनिटर करेगी। उन्होने कहा कि ई-प्रवेश पत्र ई- विधान  के अन्तर्गत बनाए जाएंगे। बैठक में सदस्यों तथा सत्र के कार्य से जुड़े अधिकारियों व कर्मचारियों को कम से कम असुविधा हो के दृष्टिगत यह निर्णय लिया गया कि विधान सभा सचिवालय द्वारा जारी अधिकारी दीर्घा पास, स्थापना पास तथा प्रैस संवाददाताओं को जारी किए पास प्रमुखता से प्रदर्शित किए जाएंगे। ताकि सुरक्षा कर्मियों द्वारा फ्रिस्किंग की कम से कम आवश्यकता रहे।

प्रैस संवाददाताओं की सुविधा एवं सार्वजनिक सुरक्षा को देखते हुए बैठक में यह निर्णय लिया गया कि प्रैस संवाददाताओं  का प्रवेश यथावत गेट नं0 3,4,5 व 6 से ही रखा जाएगा। विधान सभा सचिवालय के अधिकारियों और कर्मचारियों को भी अपने पहचान  पत्र प्रमुखता से प्रदर्शित करने होंगे। इसके अतिरिक्त यह भी  निर्णय लिया गया कि कोई भी सरकारी अधिकारी/ कर्मचारी व अन्य पास धारक अपना शासकीय पास किसी अन्य को स्थानान्तरित नहीं करेगा, अन्यथा कानूनी कार्रवाई अमल में लाई जा सकती है। बैठक के दौरान सुरक्षा की दृष्टि से विधान सभा अध्यक्ष को अवगत करवाते हुए पुलिस अधीक्षक संजीव गांधी ने कहा कि 500 से अधिक जवान विधान सभा सत्र के दौरान सुरक्षा में मौजूद रहेंगे तथा सुरक्षा चाक-चौबंद  रहेगी।

 बैठक में निर्णय लिया गया कि विधान सभा परिसर की मुख्य पार्किंग में केवल मंत्रियों, विधायकों, मुख्य सचिव, अतिरिक्त मुख्य सचिवों एवं प्रशासनिक सचिवों के वाहनों को ही पार्किंग करने की अनुमति प्रदान की जाएगी। प्रैस संवाददाताओं के लिए विधान सभा चौक से गेट नं0 2 (30 मीटर दूर) तक गाड़ियों की पार्किंग की व्यवस्था  रहेगी जबकि विधान सभा सचिवालय अधिकारियों/ कर्मचारियों को गेट नं0 2  (30 मीटर दूर) से महालेखाकार कार्यालय के बीच माल रोड़ पर  चिन्हित स्थानों पर पार्किंग सुविधा उपलब्ध होगी।

आगे यह भी निर्णय लिया गया कि विधान सभा सचिवालय की ओर से जारी पार्किंग स्टिकरज वाहन के आगे प्रमुखता से प्रदर्शित किए जाएंगे, ताकि धारकों को कम से कम असुविधा का सामना करना पड़े। मोबाईल फोन, पेज़र आदि विधान सभा के अन्दर ले जाने पर पूर्णत: प्रतिबन्ध रहेगा। विधान सभा सचिवालय भवनों तथा परिसर को दुधिया रोशनी के साथ सुसज्जित किया जाएगा।

मुख्यमंत्री तथा मंत्री परिषद के  सदस्यों से आगन्तुक तथा जनप्रतिनिधि मण्डल  विधान सभा स्थित प्रतीक्षालय में समय मिलने पर समयानुसार  मिल सकेंगे।  पुलिस विभाग तथा विधान सभा सचिवालय के अधिकारी आपसी तालमेल से इसकी व्यवस्था सुनिश्चित करेंगे ताकि किसी भी तरह की असुविधा न हो।

By HIMSHIKHA NEWS

हिमशिखा न्यूज़  सच्च के साथ 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *