Spread the love

जाति, धर्म, क्षेत्र के नाम पर भारत को बाँटना कांग्रेस के स्वभाव में: अनुराग ठाकुर 

घमंडिया गठबंधन नॉर्थ और साउथ के बीच खाई पैदा करने का कर रहा दुस्साहस: अनुराग ठाकुर 

हार से सीखने के बजाय हिंदू, हिंदी और सनातन का अपमान विशुद्ध कांग्रेसी अहंकार: अनुराग ठाकुर

कांग्रेस की भारत जोड़ो नहीं भारत तोड़ो की सोच: अनुराग ठाकुर 

“तेलंगाना में कांग्रेस का होने वाला मुख्यमंत्री कहता है कि तेलंगाना का डीएनए बिहार से बेहतर, क्या राहुल गांधी इस बयान से सहमत हैं?”

कांग्रेस और उसके सहयोगियों द्वारा देश को खंडित करने की मंशा को भाजपा कभी सफल नहीं होने देगी: अनुराग ठाकुर

06 दिसंबर 2023, नई दिल्ली:

नई दिल्ली में मीडिया कर्मियों से वार्तालाप करते हुए केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण और युवा एवं खेल मामलों के मंत्री श्री अनुराग सिंह ठाकुर ने अहंकारी इंडी अलायंस के बयानों और गतिविधियों को विभाजनकारी बताते हुए इसे देश के लोगों के बीच अविश्वास पैदा करने और भारत को तोड़ने की कोशिश में लिप्त बताया है। 

ठाकुर ने कहा, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लगातार वसुधैव कुटुंबकम की सोच को पूरी दुनिया में फैला रहे हैं। भारत ने वैश्विक महामारी के समय भी पूरी दुनिया में वैक्सीन मैत्री के माध्यम से मदद फैलाई। पिछले 9 वर्षों में हमारी सरकार का मूल मंत्र सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास रहा है। विपक्ष मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में अपनी करारी हार के बाद गाली-गलौज पर उतर आया है। अपनी हार का ठीकरा ईवीएम पर फोड़ने से भी आगे बढ़कर अब यह लोग भारत को सुनियोजित ढंग से खंडित करने की योजना पर आगे बढ़ गए हैं।”

देश की प्रमुख विपक्षी पार्टी कांग्रेस पर निशाना साधते हुए केंद्रीय मंत्री ने पूछा, “सोनिया गांधी और राहुल गांधी की ऐसी क्या मजबूरी है की उनके लिए देश को बांटना जरूरी है? उनके लिए क्यों सनातन का अपमान जरूरी है? ऐसी क्या मजबूरी है की बाबासाहेब के संविधान की धज्जियां उड़ानी जरूरी है? कांग्रेस की ऐसी क्या मजबूरी है की उनके द्वारा अपने चुनावी हार का ठीकरा ईवीएम पर फोड़ना जरूरी है? मान लीजिए अगर राहुल गांधी केरल में जीतते तो क्या कहते? क्या वहां शरिया कानून लागू है। दरअसल कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा में भारत को जोड़ने की बात नहीं, देश को तोड़ने की सोच को बढ़ावा दिया गया है”, “कांग्रेस और कांग्रेस के सहयोगी दल लगातार भारत को बाँटने का बीज बो रहे हैं। कांग्रेस के लोग संसद में अपने सहयोगियों को अपमानजनक टिप्पणियां करने हेतु पर्ची देते हैं। कांग्रेस और उसके सहयोगी अपनी हार से सीखने के बजाय हिंदू, हिंदी और सनातन के अपमान पर उतर आए हैं। ये उनका विशुद्ध अहंकार है। आखिर कांग्रेस क्यों हमेशा देश में जातिवाद या क्षेत्रवाद फैलाने में लगी रहती है? जब कांग्रेस को जातिवाद फैलाने पर वोट नहीं मिलता तब वह नॉर्थ इंडिया और साउथ इंडिया को बांटने में लग जाते हैं।”राहुल गांधी के पुराने बयान की याद दिलाते हुए ठाकुर ने कहा, “हम सभी को याद है कि कैसे अमेठी से चुनाव हारने के बाद राहुल गांधी ने दक्षिण भारत में जाकर उत्तर भारतीयों के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी की थी। ये उनकी और कांग्रेस पार्टी की घृणित सोच का परिचायक है। राहुल गांधी ऐसे नेता हैं जो मध्य रात्रि में भी टुकड़े टुकड़े गैंग के साथ खड़े होने चले जाते हैं। इनका एकमात्र मकसद देश को खंडित करना है। लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी कभी भी इस देश के टुकड़े नहीं होने देगी।”

श्री ठाकुर ने आगे कहा, “राहुल गांधी जी को बताना चाहिए कि उनकी भारत जोड़ो यात्रा ने देश को जोड़ा या तोड़ा? तेलंगाना में कांग्रेस का होने वाला मुख्यमंत्री कहता है कि तेलंगाना का डीएनए बिहार से बेहतर है। क्या राहुल गांधी इस बयान से सहमत हैं? क्या राहुल गांधी तमिलनाडु में उनके सहयोगी स्टालिन और उनके बेटे द्वारा दिए जा रहे सनातन विरोधी बयानों से सहमत हैं? क्या यह उनकी सुनियोजित रणनीति का हिस्सा नहीं है?”

By HIMSHIKHA NEWS

हिमशिखा न्यूज़  सच्च के साथ 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *