Spread the love

शिमला, हिमशिखा न्यूज़ 

नेरचौक मेडिकल कॉलेज एवं कोविड अस्पताल में बुधवार को चार कोरोना संक्रमितों की मौत हो गई है। जिससे प्रदेश में 13 और कोरोना संक्रमितों की मौत हो गई है।मृतकों में एक कुल्लू, एक मनाली और दो मंडी जिला के नेरचौक और शिला कीपड़ से संबंधित हैं। कांगड़ा जिले में चार कोरोना संक्रमितों की मौत हुई है। टांडा मेडिकल कॉलेज में बैजनाथ क्षेत्र की 44 वर्षीय महिला, रोहारा ज्वालामुखी की 80 वर्षीय बुजुर्ग महिला और सेना अस्पताल योल में भर्ती 77 वर्षीय महिला की मौत हो गई।

सेना अस्पताल योल में 82 वर्षीय संक्रमित बुजुर्ग महिला ने भी दम तोड़ दिया।
इंदिरा गांधी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल (आईजीएमसी) में कोरोना पीड़ित दो मरीजों की मौत हो गई। किन्नौर के 55 वर्षीय बुजुर्ग और दोची-जुब्बल के 31 वर्षीय मरीज ने दम तोड़ दिया। आईजीएमसी के कॉलेज प्राचार्य डॉ. रजनीश पठानिया ने कोरोना पॉजिटिव मरीजों की मौत की पुष्टि की है। चंबा अस्पताल में भनोला की 62 वर्षीय संक्रमित महिला की मौत हो गई। शिमला के रामपुर उपमंडल के तहत खनेरी अस्पताल और ननखड़ी में होम आइसोलेशन में दो कोरोना संक्रमितों की मौत हुई है।
वहीं, प्रदेश में बुधवार को कोरोना वायरस के 583 नए मामले आए है। शिमला में 141, कुल्लू 91, कांगड़ा में 68, सोलन 73, मंडी 87, हमीरपुर 30, लाहौल-स्पीति 25, चंबा 20, बिलासपुर 17, ऊना 12, सिरमौर 10 और किन्नौर में 9 पॉजिटिव केस आए हैं।

इसके साथ ही प्रदेश में संक्रमितों का कुल आंकड़ा 31401 पहुंच गया है। 6901 सक्रिय मामले हैं। 24002 मरीज ठीक हो चुके हैं। 468 कोरोना संक्रमितों की मौत हो चुकी है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने बुधवार को शिमला के हिमलैंड स्थित डायरेक्ट्रेट ऑफ वुमन एंड चाइल्ड विभाग में कर्मचारियों के सैंपल लिए। इसमें 8 में से 5 कर्मचारियों की कोविड टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। सचिवालय में लिए 47 सैंपलों में से 3 और कसुम्पटी स्थित टूरिज्म विभाग से लिए 33 सैंपलों में से एक की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।
कोरोना के चलते अस्पताल आने से डर रहें लोग: सीएम
मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि कोरोना के चलते लोग अस्पताल आने से डर रहे हैं। अब ग्रामीण लोगों को घर-द्वार टेस्ट और अन्य सुविधाएं कराई जाएंगी। मुख्यमंत्री ने रिज मैदान शिमला पर स्वास्थ्य विभाग के जीवन धारा मोबाइल हेल्थ, वेलनेस सेंटर कार्यक्रम के दौरान 10 जिलों के लिए मोबाइल वैन और टीबी मरीजों के लिए 6 वाहनों को हरी झंडी दिखाई। उन्होंने कहा कि सरकार का यह पहला प्रयास है। इसमें कामयाबी मिलेगी। इस वैन में डॉक्टर, फर्मासिस्ट, नर्स, लैब असिस्टेंट रहेगा।

इसमें कोरोना से लेकर शरीर की स्क्रीनिंग, प्रेग्नेंसी टेस्ट, शुगर, ब्लड से संबंधित सभी टेस्ट किए जाएंगे। कैंसर तक की बीमारी के टेस्ट भी इसमें करवाने की व्यवस्था है। इसमें एक्स-रे की सुविधा होगी। साधारण बीमारी का इलाज मौके पर होगा। गंभीर बीमारी से ग्रस्त मरीजों को अस्पताल लाया जाएगा। उन्होंने कहा कि ट्यूबर क्लोसिस बीमारी को देखते हुए अन्य लोग संक्रमित न हों, मामलों को पकड़ में लाने के लिए ग्रामीण क्षेत्रों के लिए ये वाहन रवाना किए हैं। इस दौरान शहरी विकास मंत्री सुरेश भारद्वाज, स्वास्थ्य मंत्री डॉ. राजीव सैजल, स्वास्थ्य सचिव अमिताभ अवस्थी, डॉ निपुण जिंदल आदि मौजूद रहे।

शादी, अन्य समारोह में कैटरिंग करने वालों के होंगे कोरोना टेस्ट
मुख्यमंत्री ने कहा कि शादी, अन्य समारोह में कैटरिंग करने वालों के भी कोरोना टेस्ट होंगे। अगर मामले बढ़ते हैं तो सरकार कड़े से कड़े कदम उठाने का फैसले लेगी।

By HIMSHIKHA NEWS

हिमशिखा न्यूज़  सच्च के साथ 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *